Love Anthem of North Campus


पेश है लव एंथम ऑफ़ नॉर्थ कैम्पस. किताब की प्री-बुकिंग जल्द ही शुरू होगी. फ़िलहाल ये गीत सुनिए. लिरिक्स कुछ इस तरह हैं.

Adlib-

इश्क़ा इश्क़ा सब कहे इश्क़ा न कोई होए जब इश्क़ा हो जाइए बैरी अखिया रोए

मुखड़ा-

देखूँ तो नज़रें मेरी चेहरे से फिसली जाए रे सीने की वीरानी में धड़कन भी मचली जाए रे गुफ़्तगू आँखों-आँखों में रु-ब-रु बातों-बातों में दिलकशी लफ़्ज़ों की बोले अजनबी ख़ुशबू साँसों में इश्क़ ये चुपके-चुपके हौले-हौले हो गया रांझे इश्क़ ये चुपके-चुपके हौले-हौले हो गया

अंतरा-

फूलों सी दुआ होंटों पे खिले, हाँ खिले जैसे अनकहा कोई रब मिले, आ मिले रूह की राहों को तरसें ख़्वाहिशें थम-थम के बरसें मौसीक़ी रग-रग में घोले जानिया बारिशें आईं यूँ चल के साज़िशें पलकों से छलकें इश्क़ ये हौले-हौले चुपके-चुपके हो गया

कोरस-

इश्क़ ये चुपके-चुपके हौले-हौले हो गया जानाँ इश्क़ ये चुपके-चुपके हौले-हौले हो गया

इश्क़ ये चुपके-चुपके हौले-हौले हो गया रांझे इश्क़ ये चुपके-चुपके हौले-हौले हो गया

#DelhiUniversity #Tripurari #NorthCampus #LoveStories #Lyrics

Featured Posts
Recent Posts