Chhath Pooja Geet - Hey Aditya Dev


बहुत बरसों से छठ पूजा गीत लिखने की तमन्ना थी। इस बरस मौक़ा मिला। पहले तो पूरा गीत मैथिली में ही लिखा था, बाद में कई वजहों से हिंदी-मैथिली करना पड़ा। बहरहाल, सुनिए और अच्छा लगे तो अपनों को सुनाइए भी...

मुखड़ा-


हे आदित्य देव हे भानू देव तुमसे ही सारा उजास


हे आदिभूत हे विश्वरूप तुमसे ही धरती अकास


तुम बिन नहीं कोई अपना तुमसे है सच होता सपना


करै छी तन मन समर्पित आब तऽ करियो स्वीकार अहाँ ने अइलियै एखन धरि कोना मिटतै अन्हार


अंतरा-


कहते हैं जीवन के लिए चाहिए सूरज के दीए एकरा बिनु नहि चलतै साँसक खेल सूरज की है छठी माय बहन करते हैं हम सब ही नमन हुनकर दया पाबि क धीया-पूता भेल


है प्रार्थना है अर्चना रखना हमें अहिवात


है अर्घ ये निसर्ग ये जितने हैं पेड़ों में पात


उनके बिना मन का घेरा उनसे है उजला सवेरा


करै छी तन मन समर्पित छठी माई करियो स्वीकार अहाँ ने अइलियै एखन धरि कोना मिटतै अन्हार


- त्रिपुरारि

Featured Posts
Recent Posts
Archive
Search By Tags